Thursday, September 29, 2022

Buy now

बिना ईंट के बना दिए पक्का मकान, इस बढ़ई के इस अनोखे प्रयोग को लोग दूर-दूर से देखने आ रहे

आमतौर पर घर ईंट और सीमेंट से ही बनाया जाता है। ऐसा कहते हैं कि इससे घर को खूबसूरती मिलती है और वह मजबूत रहता है। हालांकि आज हम इससे बिल्कुल अलग एक ऐसे मजदूर के बारे में बताएंगे जिन्होंने बिना ईंट का प्रयोग किए एक खूबसूरत से मकान का निर्माण किया है। रिपोर्ट की मानें तो बिना ईंट का यह पहला पक्का मकान है। इस मकान में भूतल के कमरे सहित तीन कमरे और एक बरामदा है। – Ganpat Sharma from Bhagalpur built a house without bricks.

बिना ईंट का मकान

एक मकान का हर दीवार चार से पांच इंच मोटी होती है और इसे छत की ही तरह ढलाई करके बनाया जाता है। हालांकि घोघा में एक मजदूर ने बिना ईंट का मकान बनाकर सबको चौका दिया है। यह ब्रिक्सलेस मकान चर्चा का विषय बना हुआ है। अब दूर-दूर से लोग इस मकान को देखने आ रहे हैं और इसके बनाने की तकनीक को समझने का प्रयास कर रहे है। अब हम आपको बताते हैं कि उस मजदूर ने ऐसा क्यों किया।

A carpenter made house without bricks amazing innovation

गणपत शर्मा का अनोखा प्रयोग

भागलपुर (Bhagalpur) जिले के घोघा के दिलदारपुर, पन्नूचक के रहने वाले निवासी बढ़ई गणपत शर्मा (Ganpat Sharma) ईंट की मंहगाई से परेशान होकर यह अनोखा प्रयोग करने का फैसला किए। हालांकि मकान का निर्माण का काम अभी भी जारी है। गणपत के अनुसार इस विधि से लागत भी 30 से 35% तक कम आती है। आपको बता दें कि इस मकान के निर्माण में कुल 18 महीने लगे हैं। यह एक स्वनिर्मित मकान है, जिसके निर्माण मे किसी भी राजमिस्त्री, मजदूर व अन्य लोगों ने मदद नहीं किया है।

A carpenter made house without bricks amazing innovation

सीमेंट और रेत से बनी है दरवाजे, खिड़कियां और चौखट

गणपत के पत्‍नी, पुत्र और उनकी पुत्री ने इस घर को बनाने में उनकी मदद की। इस मकान में लगे दरवाजे, खिड़कियां और चौखट भी लकड़ी के बजाय सीमेंट व रेत निर्मित हैं। गणपत चाहते है कि ज्यादा से ज्यादा लोग इस विधि का प्रयोग करें, जिससे अतिरिक्त खर्च ना हो। उन्होंने यह घर कैसे बनाया है उसकी पूरी जानकारी भी देते है। ईंटों की अनुपलब्धता की वजह से गणपत के मन में ‘ब्रिक्‍सलेस’ मकान बनाने का आईडिया आया। – Ganpat Sharma from Bhagalpur built a house without bricks.

A carpenter made house without bricks amazing innovation

दियारा में मकान बनाने के लिए ईंट उपलब्ध नहीं है

गणपत शर्मा कहते हैं कि उनका प्रयास हमेशा कुछ नया करने का होता है। वह कटाव पीड़ित हैं, दरसल उनका पुराना घर दिलदारपुर दियारा में था, जो दस साल पहले पूरी तरह नदी में समा गया। दियारा में मकान बनाने के लिए ईंट उपलब्ध नहीं होता इसलिए वहां के लोग बांस के प्रयोग से कच्चे मकान बनाते हैं। ऐसे में गणपत कुछ नया करने का फैसला किए।

A carpenter made house without bricks amazing innovation

पूरे राज्य से लोग आ रहे है इस घर को देखने

गणपत अपने खोजी स्वभाव के अनुसार चहारदिवारी का पांच फीट हिस्सा पीलर ढलाई के तरीकों को अपनाते हुए बिना ईंटों का इस्तेमाल किए बना दिए। इससे उन्होंने बिना ईट के पूरा मकान बनाने का आईडिया आया। वह घोघा आकर अपने इस तकनीक का प्रयोग कर मकान बनाए। यह घर इतना लोकप्रिय बन चुका है कि इसे देखने के लिए पूरे राज्य भर से लोग आ रहे हैं। – Ganpat Sharma from Bhagalpur built a house without bricks.

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles