Thursday, September 29, 2022

Buy now

आसिफ ने 4 हजार रुपए के साथ एक ठेले से व्यापार की शुरुआत की, आज कमा रहे 40 करोड़ रूपए

कहते हैं प्रयास करने वाले की कभी हार नहीं होती। सफलता उसी को मिलती है जो प्रयास करता है। आज हम आपको एक ऐसे शख्स की कहानी बताएंगे, जिसे कभी आर्थिक हालातों से मजबूर होकर पढाई छोड़नी पड़ी, तो कभी परिवार के लिए चार हजार रूपये में ठेले पर बिरयानी बेचने का कारोबार शुरू किया। केवल आत्मबल, खाना पकाने का शौक और बिरयानी बनाने के अनुभवों के साथ उन्होंने अपना ठेला लगाने का और अपना कारोबार शुरू करने का फैसला किए। – Asif Ahmed from Chennai, is doing annual turnover of 40 crores through biryani.

12 साल की उम्र से शुरू किए काम करना

दरअसल आज हम चेन्नई (Chennai) के पल्लवरम के रहने वाले आसिफ अहमद (Asif Ahmed) की बात कर रहे है। उनका जन्म एक सामान्य परिवार में हुआ था। शुरुआती दिनों से ही उनका परिवार बुरी आर्थिक हालातों से परेशान था, लेकिन स्थिति तब और बिगड़ गई जब उनके पिता नौकरी से सस्पेंड हुए। घर की हालातों को देखते हुए आसिफ 12 साल की उम्र से काम करना शुरू कर दिए।

Aashif business startup reached 40 Crore

14 साल की उम्र में जूते का कारोबार

आसिफ 12 साल की उम्र से न्यूज पेपर की डिलीवरी और पुराने किताब बेचकर पैसे कमाते थे। उसके बाद अधिक पैसा कमाने के लिए आसिफ कई कारोबार में अपनी किस्मत आजमाना। बता दें कि मात्र 14 साल की उम्र में उन्होंने चमड़े के जूते का एक कारोबार शुरू किया, जिसमें उन्हें शुरुआती सफलता मिली और वह एक लाख तक की कमाई किए, परंतु कुछ ही दिनों में चमड़ा उद्योग मंडी के दौर में चला गया और आसिफ का कारोबार बंद हो गया।

Aashif business startup reached 40 Crore

अपने पसंद को दिए करोबार का रूप

आसिफ को बचपन से ही खाना पकाने बहुत पसंद था। उन्होंने अपने पसंद को करोबार का रूप देने का प्रयास किया और एक बिरयानी विशेषज्ञ के यहाँ सहायक के रूप में शामिल हो गया, जो शादियों और अन्य स्थानीय कार्यक्रमों में काम किया करते थे, लेकिन एक अच्छी नौकरी की ललक तो सबकी होती है और इसी ललक ने उन्हें इस काम को छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया। – Asif Ahmed from Chennai, is doing annual turnover of 40 crores through biryani.

Aashif business startup reached 40 Crore

4000 रुपए से शुरू किए बिरयानी का एक ठेला लगाना

एक एजेंट ने आसिफ से 35 हजार रुपये लेकर मुम्बई में नौकरी का भरोसा दिया, लेकिन जब आसिफ मुम्बई पहुँचे तो वह एजेंट पैसे लेकर भाग गया और उन्हें वापस चेन्नई लौटना पड़ा। वापस लौट कर आसिफ 4000 रुपये की अपनी बैंक सेविंग्स के जरिए बिरयानी का एक ठेला लगाए। शुरूआती दिनों में वह प्रतिदिन घर पर बिरयानी बनाकर उसे बाजार में बेचने जाया करते। लोगों ने उनके बिरयानी के टेस्ट को खूब पसंद किया। तीन महीने के भीतर ही इनकी प्रतिदिन बिक्री 10 से 15 किलो के पार हो गया।

Aashif business startup reached 40 Crore

आसिफ की सालाना टर्नओवर आज 40 करोड़ को पार कर चुका है

आसिफ को जब इस कारोबार से अच्छी कमाई होने लगी, तो उन्होंने साल 2002 में एक छोटी सी दुकान किराये पर ले लिया और “आसिफ बिरयानी” के नाम से दुकान की शुरूआत किए। तीन साल बाद आसिफ 1500 वर्ग फुट क्षेत्र में एक बड़ा आउटलेट खोले, जहां उन्होंने 30 लोगों को काम पर रखा। कुछ बचाई हुई रकम और बैंक लोन की मदद से उन्होंने आठ और रेस्टोरेंट खोले। परिवार में जब मतभेद शुरू हुए तो आसिफ ने दो रेस्टोरेंट अपनी माँ और दो अपने भाइयों के नाम कर दिया। आपको बता दें कि आसिफ बिरयानी प्राइवेट लिमिटेड का टर्नओवर आज 40 करोड़ को पार कर चुका है। आसिफ की हर स्थिति में आगे बढ़ने का जनुन हर किसी के लिए प्रेरणादायक है। – Asif Ahmed from Chennai, is doing annual turnover of 40 crores through biryani.

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles