Wednesday, October 5, 2022

Buy now

देखिए भारत के सबसे खूबसूरत हिल स्टेशन, बर्फ से लदी वादियां गर्मी में घूमने के लिए यह जन्नत है

बहुत से लोग हिल स्टेशन के दिवाने होते हैं। तपती गर्मी से राहत पाने के लिए हिल स्टेशन पर जाने से अच्छा और कोई विकल्प नहीं है। भारत में एक या दो नहीं बल्कि कई सारे हिल स्टेशन हैं जहाँ की खूबसूरती अकल्पनीय है। बता दें कि हिल स्टेशन के लिए शहर या गांव की न्यूनतम ऊंचाई 1000 फीट या 3,281 होनी चाहिए। भारत में ज्यादातर हिल स्टेशन 1000-2700 फीट की कैटेगरी में आते हैं।

लेकिन कुछ इस औसत ऊंचाई (india’s highest hills station) से भी ज्यादा हैं। यानी की इनकी ऊंचाई 2700 फीट से ऊपर हैं। आमतौर पर पॉपुलर हिल स्टेशनों पर तो लोग घूमने जाते हैं, लेकिन भारत में कुछ ऐसे हिल स्टेशन हैं,जो बहुत ऊंचाई पर होने के बाद भी पर्यटकों की नजर से अब तक छिपे हुए हैं। तो आइए, हम आपको ऐसे ऊंचे हिल स्टेशनों के बारे में बताएंगे, जहां आप आसानी से पहुंच सकते हैं।

कल्पा, हिमाचल प्रदेश- Kalpa, Himachal Pradesh

कल्पा शिमला से लगभग 251 किमी दूर है। यह छोटा सा गांव हिमाचल प्रदेश के अन्य हिल स्टेशनों की तरह बहुत ज्यादा पॉपुलर नहीं है। सांगला से संकरी सड़कों के जरिए यहां पहुंचा जा सकता है। यहां आप किन्नर कैलाश के पहाड़ों को करीब से देख सकते हैं। कल्पा इस क्षेत्र के सबसे ऊंचे गांवों में से एक है, जिसकी ऊंचाई 2,960 मीटर है। कल्पा के आसपास आपको बहुत से सेब के बगीचे और देवदार के जंगल देखने को मिलेंगे। आप यहां प्राचीन हिंदू और बौद्ध मंदिरों की यात्रा भी कर सकते हैं। यह दोनों धर्मों की स्थापत्य शैली को दर्शाता है।

Suicide Point Kalpa की यह तस्वीर मन मोह लेगी

कल्पा की ऐसी खूबसूरती जिसे देख कोई भी दीवाना हो जाएगा, गगनचुंबी पहाड़ों से घिरी यह जगह जन्नत है

औली, उत्तराखंड – Auli, Uttarakhand

औली उत्तराखंड में एक पॉपुलर स्कीइंग डेस्टीनेशन है। यूं तो औली सालभर जा सकते हैं, लेकिन सर्दियों के दौरान जोशीमठ और रोपवे के रास्ते यहां पहुंचना होता है। औली 3,056 मीटर की औसत ऊंचाई के साथ उत्तराखंड के सबसे ऊंचे हिल स्टेशनों में से एक है। औली में आर्टिफिशियल झील हैं, जो स्कीइंग को आसान बनाती है। यदि आप गर्मी के दिनों में औली जा रहे हैं, तो हिल स्टेशन के आसपास अलग-अलग ट्रैक का आनंद ले सकते हैं। यहां के सबसे पॉपुलर ट्रेक गुरसो बुग्याल और क्वानी बुग्याल के आसपास हैं।

जुलुक, सिक्किम – Zuluk, Sikkim

सिक्किम के पूर्वी भाग में बसा जुलुक तिब्बत में ल्हासा के रेशम व्यापार मार्ग का हिस्सा था। 3000 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित जुलुक गंगटोक से पहुंचा जा सकता है। एक प्रतिबंधित क्षेत्र होने की वजह से, यहां पहुंचने के लिए आपको परमिट लेना होगा। गर्मियों में ठंडक, मानसून में हरियाली और सर्दियों में बर्फ यात्रियों को मोहित कर देती है। जुलुक से बाहर आप नाथंग घाटी और कुपुप झील घूमने जा सकते हैं ।

इन खूबसूरत रास्तों में खो जाने का मन करेगा

काजा, हिमाचल प्रदेश – Kaza, Himachal Pradesh

काजा के बारे में बहुत कम पर्यटक जानते हैं। यह हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति घाटी जिले के स्पीति डिवीजन का हेडक्वार्टर है। यह समुद्र तल से लगभग 3650 मीट की ऊंचाई पर स्थित है। इतना ही नहीं काजा के आसपास के विभिन्न गांव इससे भी ज्यादा ऊंचाई पर बसे हुए हैं। उदाहरण के लिए काजा से लगभग 4 किमी दूर कॉमिक का गांव है। यह गांव दुनिया का सबसे ऊंचा मोटरेबल गांव होने के लिए जाना जाता है।

केलांग, हिमाचल प्रदेश – Keylong, Himachal Pradesh

केलांग हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति घाटी जिले का हेड क्वार्टर है। यहां आमतौर पर मनाली से लेह पहुंचने वाले यात्री रूकते हैं। अक्टूबर से लेकर मई के महीने तक भारी हिमपात के कारण सड़कें बंद रहती हैं। केलांग में कुछ बौद्ध मठ देखने लायक हैं, जिनमें से एक शुशूर मठ है। पहाड़ी पर स्थित मठ पर पहुंचने के लिए सड़कें बहुत ही संकरी हैं। देश की सबसे ऊंची झीलों में से एक सूरज ताल है। यह एक छोटी झील है, जो सर्दियों में सफेद जमी हुई और अन्य मासैम में नीले रंग की दिखती है। इस हिल स्टेशन की औसत ऊंचाई 3000 मीटर है।

“इन सभी ऊंचाई वाले हिल स्टेशनों पर ठहरने के बजाए पर्यटकों को सलाह दी जाती है कि दिन में ही यहां की यात्रा करें। ज्यादा ऊंचाई वाली जगहों पर पर्यटकों को सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।”

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles