Tuesday, October 4, 2022

Buy now

खुद हैं चौथी पास लेकिन परिवार के 11 सदस्यों को बनाया अधिकारी, जानिए हरियाणा के इस शख्स की कहानी

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद हर युवा यही चाहता है कि वह एक बेहतर भविष्य की ओर अपने कदम बढ़ाए। बेहतर भविष्य की करी में उनका सिया सपना होता है कि वह IAS, IPS और IFS अफसर बने और लोगों की सेवा करें। इसके साथ ही वहां अपने परिवार को गौरवान्वित महसूस करें।

एक परिवार के 11 सदस्य ऑफिसर

हरियाणा के रहने वाले एक परिवार के बारे में बताने जा रहे हैं। जिस परिवार के 11 सदस्य IAS, IPS और कई अन्य आधिकारिक पद पर तैनात हैं।- an illiterate man makes his family full of officers from Haryana Jind

11 अधिकारियों वाला यह परिवार

हरियाणा के जींद जिले में डूमरखा कलां गांव का रहने वाला परिवार जहां के 11 सदस्य अधिकारी पद पर हैं। इस परिवार के कई लोग आईएएस और आईपीएस जैसे पद पर तैनात हैं।

घर के मुखिया का था सपना

इस परिवार के मुखिया चौधरी बसंत सिंह श्योकंद काया सपना था कि उनके घर के बच्चे आधिकारिक पद पर जाएं। वह स्वयं मात्र चौथी कक्षा तक ही पड़े हैं लेकिन उन्होंने अपने सपने को साकार करने के लिए अपने बच्चों को पढ़ाया। – an illiterate man makes his family full of officers from Haryana Jind

बच्चों के मेहनत को दिया मुकाम

अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत की और उनके बच्चों ने उसे व्यर्थ भी नहीं जाने दिया। उनके सपने को साकार करते हुए परिवार के 11 सदस्य अफसर बने।

अधिकारियों वाला परिवार

एक मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार पसंद सिंह के बड़े बेटे राजकुमार श्योकंद कॉलेज के एक रिटायर्ड प्रोफेसर हैं। उनका बेटा यशेंद्र एक आईएएस अफसर है और उनकी बेटी स्मृति चौधरी अंबाला के रेलवे में एसपी पद पर तैनात हैं।- an illiterate man makes his family full of officers from Haryana Jind

और भी हैं अन्य अधिकारी

इसके साथ ही बसंत सिंह के दूसरे बेटे कॉनफ्रेंड मैं जीएम थे और उनकी पत्नी डिप्टी डी आई थी। ऐसे ही इस परिवार के कई और सदस्य अधिकारी हैं।

घर के मुखिया का वर्ष 2021 में ही हुआ निधन

अधिकारियों वाले इस परिवार के मुखिया चौधरी बसंत सिंह 99 वर्ष की उम्र में चल बसे। उन्होंने बेशक चौथी क्लास तक की पढ़ाई की थी लेकिन उनके सपने बहुत बड़े थे।

उन्होंने अपने परिवार के हर एक सदस्य को अफसर बनने के लिए प्रेरित किया और उनके सपने को उनके बच्चों ने साकार भी किया।- an illiterate man makes his family full of officers from Haryana Jind

Amit Kumar
Coming from Vaishali Bihar, Amit works to bring nominal changes in rural background of state. He is pursuing graduation in social work and simentenusly puts his generous effort to identify potential positivity in surroundings.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles