Wednesday, October 5, 2022

Buy now

किसान ने 20 लाख खर्च कर पक्षियों के लिए बनाया अद्भुत घर, 140 फ़ीट लम्बे और 40 फ़ीट ऊंचे आशियाने में हज़ारों पक्षी रहेंगे

जब आप पक्षियों को पानी पिलाते हैं तो ब्रह्मांड को यह संदेश पहुंचाता है कि आप दूसरों को कुछ देने के लिए समृद्ध और तैयार हैं। यह आपके घर की खुशहाली में वृद्धि करता है। बढ़ते शहरीकरण और औद्योगिकीकरण की वजह से पेड़ लगातार कम हो रहे हैं। बाग-बगीचे और खेती को खत्म कर बहुमंजिला इमारतें बनाई जा रही हैं। वहीं, जलीय पक्षियों के आवास भी सुरक्षित नहीं है। इन्हें बचाने के लिए शासन स्तर से लेकर आम जन सभी का सहयोग जरूरी हो चला है।

पशु-पक्षी प्रेमी भी इस ओर लगातार सराहनीय कदम उठा रहे हैं, लेकिन आम जन के बिना इन्हें बचाने की मुहिम बहुत पिछड़ती जा रही है। इसके बावजूद भी आज के जमाने में भी पक्षियों और जीव – जन्तुओ से प्रेम की भावना रखने वाले लोगो की कमी नहीं है। आज हम बात करेंगे एक ऐसी हीं व्यक्ति भगवानजी भाई रूपापारा (Bhagwanji Bhai Rupapara) की, जो आज-कल पशु-पक्षी की सेवा को लेकर समाज में चर्चा का विषय बने हुए है।

भगवानजी भाई रूपापारा का परिचय

लोगों के लिए प्रेरणा बने भगवानजी भाई रूपापारा (Bhagwanji Bhai Rupapara) मूल रूप से गुजरात (Gujarat) के रहने वाले है। वह पेशे से एक किसान हैं तथा उनकी उम्र 75 वर्ष है। वे गुजरात में हीं किसानी का काम करते है तथा अपने परिवार के साथ रहते थे। वह 100 एकड़ खेतों का काम संभालते हैं। उनके दो बेटे हैं जो की एक एग्रो कंपनी चलाते हैं। गौरतलब है कि लॉकडाउन के दिनों में देशभर में कई लोग इसलिए अपने घरों से निकलते थे ताकि वे भूखे पक्षियों का पेट भर सकें लेकिन भगवानजी भाई रूपापारा पिछ्ले कई सालों से पक्षियों को दाने देने का काम करते आ रहे हैं।

Bhagwanji bhai ruppara spends 20 lakh rupees to built bird house

परिंदो के लिए बनाया मटके का घर

किसान भगवानजी भाई (Bhagwanji Bhai Rupapara) का पक्षियों के प्रति काफी प्यार तथा स्नेह रहता है। पक्षियों के रहने के लिए उन्होंने खर्च की परवाह किए बिना एक घर बनाया है। हम सभी घर बनाने के लिए अक्सर आर्किटेक्ट से लेकर इंटीरियर डिज़ाइनर की मदद लेते हैं लेकिन चौथी पास भगवानजी भाई ने खुद की सूझ-बुझ से 140 फीट लम्बा और 40 फीट ऊंचा पक्षी घर तैयार किया है।

आपको जानकर यह ताज्जुब होगा कि इसके लिए उन्होंने (Bhagwanji Bhai Rupapara) लगभग 20 लाख रुपये खर्च किए हैं। इसमें उन्होंने तक़रीबन 2500 छोटे-बड़े मटकों को इस तरह से सजाया है कि कई तरह के पक्षी इसमें अपना घर बना सकें। उनके द्वारा पक्षियों के लिए बनाया गया यह घर शिवलिंग के आकार का है।

यह भी पढ़ें :- गरीबों को यहां से मिलता है मुफ्त कपड़ा “नेकी की दीवार” से कंपकपाती ठंड में सबका तन ढकता है

अब पहचानने लगे हैं पक्षिएं

पक्षियों के लिए 20 लाख की लागत से शिवलाय के अकार का पक्षी घर बनाने वाले गुजराती किसान भगवानजी भाई (Bhagwanji Bhai Rupapara) को अब पक्षी भी पहचानते हैं। जब वो पक्षियों को दाना-पानी देने जाते हैं, तब पक्षी आराम से उनके आस-पास घूमते हैं क्योंकि वे उनके दोस्त हैं, शिकारी नहीं।

परिवार भी करता है सहयोग

इस काम में उनका (Bhagwanji Bhai Rupapara) पूरा परिवार सहयोग करता है। चूकि वह एक संपन्न परिवार से आते हैं इसलिए पक्षियों के आवास के रुप में पैसे लगाने में उन्हें जरा भी हिचक नहीं होती है। आसपास के लोग उनके काम की सराहना भी करते है। बाकी अगर कोई 75 वर्षीय भगवानजी भाई से पूछता है कि यह काम वो कबतक करेंगे? तो वह मुस्कुराकर जबाब देते की जब तक मैं जीवित हूं तब तक तो मैं हीं करूँगा लेकिन इसके बाद भी पक्षियों की सेवा होती रहेगी।

लोगों के लिए बने प्रेरणा

अपने मेहनत और संघर्ष के बदौलत एक किसान जब पक्षियों के लिए 20 लाख रुपये की लागत से जब उसका ठिकाना बना सकता है तो वाकई वह किसान एक नेक दिल इंसान होगा। इस तरह भगवानजी भाई रूपापारा (Bhagwanji Bhai Rupapara) के इस नेक काम की चर्चाएं पूरे देश भर में हो रही है। उनकी यह कहानी हमे पशु-पक्षीयों के लिए सहयोगात्मक रवैया के लिए प्रेरित करती है।

निधि भारती
निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles