Thursday, September 29, 2022

Buy now

जानिए आखिर क्यों इस डॉक्टर ने अपनी XUV कार पर चढ़ाया गोबर का लेप

ट्रेंड को फॉलो करते हुए पुणे के मशहूर डॉक्टर ने भी गाड़ी पे गोबर पोतने का ट्रेंड को किया फॉलो।

अभी तो मार्च आया है। और मार्च में ही जून जैसी गर्मी होने लगी है भीषण गर्मी के चलते लोग नए नए प्रयोग करने लगे है जिससे गर्मी से बचा जा सके। हल ही में अहमदाबाद में रहने वाली ने अपनी लाखो की टोयोटा कोरोला एल्टिस (Toyota Corolla Altis) पर गाय के गोबर का लेप लगाया था । और तब से ये ट्रेंड में आ गया । अब इसी ट्रेंड को फॉलो करते हुए पुणे के एक सीनियर डॉक्टर ने अपनी महिंद्रा एक्सयूवी500 (Mahindra XUV500) पर गाय के गोबर लेप लगाया है।

लेप लगाने से क्या हुए फायदे….

गाय के गोबर से लेपी हुई महिंद्रा एक्सयूवी 500 की तस्वीरें इस समय इंटरनेट पर काफी तेज़ी से वायरल हो रही हैं। इस तस्वीर में पुणे के डॉ. नवनाथ दुधल (Dr. Navnath Dudhal) अपनी इस एसयूवी के साथ खड़े हैं। डॉ. नवनाथ का कहना है कि ऐसा करने से उनको गाड़ी का प्रयोग करते वक्त एसी AC का कम से कम प्रयोग करना पड़ रहा है इससे गाड़ी सामान्य तौर पर कम गर्म हो रही है।

Mahindra Suv 500

महिंद्रा एक्सयूवी 500 गाड़ी पर तीन लेयर का गोबर लगाया गया है और एसयूवी के ग्लास एरिया को छोड़ कर बाकी सारे जगह पे गोबर को लेपा गया है डॉ. नवनाथ दुधल (Dr. Navnath Dudhal) का कहना है की गाय का गोबर लगाने के बाद गाड़ी पे सूरज की रोशनी सीधी गाड़ी पर नहीं पड़ती। जिससे गाड़ी का तापमान कम गर्म रहता है।

यह भी पढ़ें:-MBA, LLB की पढ़ाई कर शुरू की मिट्टी के बर्तन बेचने का काम, लोगों ने ताने मारे लेकिन खुद की कंपनी खड़ी कर ली

किस तरीके से करते है साफ….

इसके अलावा डॉ. नवनाथ बताते है की जब वे इसे हटाते है तो वे पानी और कॉटन के कपड़े से इसे आसानी से साफ करते है। गोबर से गाड़ी के पेंट पर कोई भी बुरा असर नहीं होता है। बता दें कि, डा. नवनाथ मुंबई के टाटा कैंसर हॉस्पिटल (Tata Cancer Hospital) में सीनियर डॉक्टर हैं। उनका दावा है कि ये विचार उनके दिमाग में इसलिए आया क्योंकि वो नियमित रूप से कैंसर से पीड़ित लोगों के लिए गोमूत्र के लाभ का अध्ययन करते रहते हैं।

और आपको यह भी बता दे , की अभी वैज्ञानिकों तौर पर इसकी कोई पुष्टि नहीं की गई की गाय का गोबर कार के तापमान को अंदर से ठंडा रखता है। लेकिन हम इस बात से भी इंकार नहीं सकते क्युकी गांव के लोग अपने कच्चे घर , दिवारे , फर्श यहां तक छत पर भी गाय के गोबर के लेप से लेयर बनाने की प्रक्रिया का काम करते है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles