Sunday, February 5, 2023

Buy now

गंगा नदी में लीजिए आलीशान सुविधाओं से लैस क्रूज का आनंद, 52 पर्यटन स्थलों से होकर गुजरेगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशवासियों के लिए एक शानदार तोहफा दिया है जिसने भारत के ही नहीं बल्कि विदेशी पर्यटक भी इसका भरपूर आनंद उठाएंगे। आज तक हम लोगों ने रेल व हवाई जहाज जैसे आधुनिक चीजों पर सफर किया है। वैसे कुछ लोग है जो क्रुज का भी आनंद उठा चुके हैं। अब अपने शहर में ही इस आधुनिक चीजों से लैस गंगा विलास क्रुज का आनंद उठा सकेंगे। यह गंगा विलास क्रुज वाराणसी से चलकर डिब्रुगढ़ तक जाएगी। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस क्रूज का उद्घाटन शुक्रवार 13 जनवरी 2023 को करेंगे तो आईए जानते हैं इस गंगा विलास क्रुज की क्या है खासियत और कितना है किराया।

आधुनिक सुविधाओं से लैस है गंगा विलास क्रुज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस गंगा विलास क्रूज का उद्घाटन 13 जनवरी 2023 को किया जाएगा और इस क्रूज का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे। यह क्रूज फिलहाल वाराणसी पहुंच चुका है। गंगा विलास क्रूज वाराणसी से चलकर पटना, कलकत्ता, ढाका, गुवाहाटी, काजीरंगा होते हुए डिब्रुगढ़ तक जाएगी। यह तकरीबन 52 दिनों की यात्रा होगी।

यह भी पढ़ें:-भारत के बङे बिजनेस मैन रतन टाटा के छोटे भाई जीते हैं गुमनाम की जिंदगी, जानिए किस हालत में हैं

गंगा विलास क्रूज आधुनिक सुविधाओं से लैस है। इसमें 18 कमरे हैं। फिल्टरेशन प्लांट भी है जो गंगा का पानी फिल्टर करके नहाने-धोने के साथ-साथ अन्य कामों में उपयोग किया जा सकता है। इसमें 60000 लीटर पानी की टंकी भी है। इसके साथ-साथ इस क्रुज में लाइब्रेरी, स्पा, जिम जैसी सुविधा भी दी गई है। सन वाथ के लिए रूफटॉप की भी व्यवस्था है। इस क्रूज में 40,000 लीटर के फ्यूल टेंट भी है जो 30 से 40 दिनों तक इसमें फ्यूल की कमी नहीं होगी।

Prime Minister gave a gift to the countrymen Ganga Vilas Cruise will go from Varanasi to Dibrugarh

कितना होगा किराया

गंगा विलास क्रूज वाराणसी से चलकर डिब्रुगढ़ तक जाएगी। वाराणसी और डिब्रुगढ़ की दूरी 3200 किलोमीटर की है। इस 3200 किलोमीटर की दूरी तय करने में 52 दिन लगेंगे जिसका यात्री भरपूर आनंद उठा पाएंगे। छोटे बड़े शहरों से गुजरती हुई यह डिब्रुगढ़ तक जाएगी अगर इसकी किराए की बात की जाए तो गंगा विलास क्रूज के एक रात का किराया 25,000 से लेकर के 50,000 के बीच होगी इस क्रुज में 36 लोग आसानी से सफर कर सकते हैं। 36 लोगों के साथ साथ 36 क्रू मेंबर भी होंगे।

इस क्रुज से 50 पर्यटन स्थलो की यात्रा होगी

PMO की ओर से बताया गया है कि इस क्रूज में सबसे पहले यात्रा स्विट्ज़रलैंड के 32 पर्यटक कर रहे हैं जो स्विट्ज़रलैंड के ट्रेवल कंपनी ने ऑर्गनाइज किया है। गंगा विशाल क्रूज को इस प्रकार बनाया गया है कि जो देश के सर्वश्रेष्ठ चीजों को प्रदर्शित कर सके यह क्रूज बिहार के पटना, झारखंड, साहिबगंज, पश्चिम बंगाल के कोलकाता, बांग्लादेश के ढाका, असम के गुवाहाटी जैसे प्रमुख शहरों सहित 50 पर्यटन स्थानों की भ्रमण कराएगी। साथ ही साथ 36 यात्रियों के साथ इसमें 18 सूइट्स और तीन डेक ले जाने की भी छमता है।

यह भी पढ़ें:-भाई-बहन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब हो रहा वायरल, आप भी देखें

PMO कि तरफ से बयान

PMO की तरफ से बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री के इस प्रयास से क्रूज पर्यटन के एक भव्य युग की शुरुआत करने में मदद मिलेगी। साथ ही साथ पर्यटक आसपास स्थित घाटों से नावों से टेंट सिटी पहुंचेंगे। यह टेंट सिटी हर साल अक्टूबर से लेकर जून तक चलेगी और बारिश के मौसम में नदी का जलस्तर बढ़ जाने के कारण इसे 3 महीनों के लिए बंद कर दी जाएगी। इसे वाराणसी विकास प्राधिकरण द्वारा पीपीपी मोड में विकसित किया गया है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles