Tuesday, October 4, 2022

Buy now

प्लास्टिक का रिसाइक्लिंग कर बनाएं कई प्रकार की चीजें और कमाएं लाखों रुपए, इस तरह लगाएं फैक्ट्री

हम जानते हैं कि प्लास्टिक हमारे लिए बेहद हीं हानिकारक है लेकिन फिर भी आए दिन हम इसका यूज भारी मात्रा में करते आ रहे है और यही कारण है कि हमारे चारों तरफ प्लास्टिक का कचरे का पहाड़ देखने को मिल रहा है। हालांकि अब सरकार ने इस पर एक्शन लेना शुरू कर दिया है और जल्द से जल्द इन प्लास्टिक के कचरों को रीसाइक्लिंग कर प्रकृति को प्रदूषित होने से बचाने की कोशिश में लगी है। ऐसे में अगर कोई भी प्लास्टिक रिसाइकल का बिजनेस शुरू करें तो वो अच्छी कमाई प्राप्त कर सकता है।

कर रहे हैं अच्छी कमाई

प्लास्टिक के कचरों से निपटारे हेतु बहुत से लोग प्लास्टिक रीसाइक्लिंग का बिजनेस शुरू कर रहे हैं। इसी बिजनेस से जुड़े हुए शख्स कुलदीप कालिया (Kuldeep kalia) के बारे में बात करेंगे, जो प्लास्टिक रीसाइक्लिंग का बिजनेस शुरू करके अच्छी कमाई प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने अपने इस बिजनेस का नाम S K Engineering work रखा है।

उन्होंने बताया कि, इस बिजनेस की शुरुआत प्लास्टिक रिसाइकल का उद्देश्य लेकर मंगोलपुरी से की गई थी। पसंद आज के दौर में जब हम अपनी नजर चारों तरफ घुमाते हैं तो केवल हमें प्लास्टिक ही प्लास्टिक देखने को मिलता है। इसलिए इस समस्या से निपटारे का एक ही उपाय है और वो है प्लास्टिक का रीसाइक्लिंग।

कैसे किया जाता है प्लास्टिक का रीसाइक्लिंग?

प्लास्टिक रीसाइक्लिंग के लिए सबसे पहले प्लास्टिक बैग, प्लास्टिक के बोतल आदि को एक जगह एकत्रित किया जाता है। उसके बाद एक क्वालिटी के प्लास्टिक को अलग कर डस्ट क्लीनर मशीन में डाला जाता है, जिससे उन पर लगे डस्ट पूरी तरह साफ हो जाते है। उसके बाद उन प्लास्टिक को प्लास्टिक स्क्रैप ग्राइंडर मशीन में डाल दिया जाता है और उसमे उन प्लास्टिक को छोटे-छोटे टुकड़ों में कर दिया जाता है। इसके बाद इन प्लास्टिक के टुकड़े को वाशिंग कन्वेयर मशीन में डाला जाता है और यह इन्हे वश करके वाशिंग मशीन की ओर भेज देता हैं। इस मशीन में किसी भी गंदे प्लास्टिक को आसानी से साफ किया जा सकता है। आपको बता दें कि, इस मशीन में 1 घंटे में 100 किलो गंदा प्लास्टिक को साफ किया जाता है।

यह भी पढ़ें:-कभी करती थी बैंक में सफाईकर्मी का काम आज उसी बैंक में बनी क्लर्क, जानिए इस महिला की सफलता की कहानी

प्लास्टिक के टुकड़े को वश होने के बाद इनको सुखाने के लिए फिल्म ड्रायर मशीन में डाला दिया जाता है फिर सभी प्लास्टिक कुछ हीं मिनटों में ड्राई होकर बाहर निकल जाते हैं। इसके बाद इन प्लास्टिक को एगलो मार्टिन मशीन में डाला दिया जाता है, जिससे इस प्लास्टिक के टुकड़ों का साइज और ज्यादा छोटा और पूरी तरह ड्राई हो जाता हैं। इसके बाद ये प्लास्टिक पूरी तरह रीसाइकलिंग के लिए तैयार हो जाते है।

वीडियो देखें:-👇👇

इसके बाद इन प्लास्टिक को प्लास्टिक रीसाइकलिंग मशीन के ऊपर डालते है, जहां से प्लास्टिक हीटिंग बैरल के ओर जाता है फिर बैरल के दूसरी छोड़ से पिघलता हुआ प्लास्टिक एक पाइप की मदद से बाहर आता है। इसके बाद इसे ठंडा करने के लिए एक वाटर टैंक से होकर गुजारा जाता है। ठंडा होने के बाद प्लास्टिक सीधे एक कटक में जाता है और यहां इसके पैलेट कट जाते हैं। अब यह प्लास्टिक ग्रेन्यूल्स मार्केट में बेचे जाने के लिए पूरी तरह तैयार है। इन प्लास्टिक ग्रेन्यूल्स को इंजेक्शन मोल्डिंग मशीन में द्वारा नए-नए प्रॉडक्ट के रूप में तैयार किया जा सकता है।

कुलदीप कालिया (Kuldeep kalia) के बेटे अभिषेक कालिया (Abhishek kalia) का कहना है कि वे इस बिजनेस को 30 सालों से कर रहे हैं। उनके कंपनी S K Engineering work के द्वारा प्लास्टिक रीसाइक्लिंग से बनाए गए प्रोडक्ट देश हीं नहीं बल्कि विदेशों में भी बेचा जाता है।

यह भी पढ़ें:-ये महिला चलाती हैं चलती-फिरती “चाची की रसोई” रोज भरती हैं गरीबों का पेट

इस बिजनेस को शुरू करने में आने वाली लागत

प्लास्टिक रीसाइक्लिंग के प्लांट को लगाने में लगभग 50 लाख रूपए की लागत आ सकती है। वहीं अगर मशीन की कीमत की बात करें तो डस्ट क्लीनर मशीन की कीमत 1,80,000 रूपये, प्लास्टिक स्क्रैप ग्राइंडर मशीन की कीमत 1,50,000 रूपये, वाशिंग कन्वेयर मशीन की कीमत 2,00,000 रूपये, फिल्म ड्रायर मशीन की कीमत 2,50,000 से 2,75,000 रूपये तथा प्लास्टिक रीसाइक्लिंग मशीन की कीमत 9,50,000 रूपये है।

वहीं इसके बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए एरिया की बात करें तो 1000 Sqft की जरूरत होगी तथा इस प्लांट में 10 से 12 मजदूर की जरूरत होगी।

निधि भारती
निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles