Thursday, September 29, 2022

Buy now

‘मैं कोई दान की वस्तु नही हूँ बल्कि बेटी हूँ’ यह कहकर इस IAS अफसर ने कन्यादान करने से मना किया: आपको यह पहल कैसा लगा

“मैं दान करने की चीज नहीं, आपकी बेटी हूँ” यह कथन है IAS तपस्या परिहार की। UPSC में 23वीं रैंक हासिल करने वाली तपस्या परिहार (Tapasya Parihar) की शादी काफी चर्चा में है और इस चर्चा का कारण है कन्यादान का न होना। ऐसे में आइए जानते हैं इस खबर के बारे में पूरी बात क्या है?

क्या है पूरा मामला?

मध्यप्रदेश (MadhyaPradesh) के नरसिंहपुर गांव में जन्मी IAS तपस्या परिहार और IFS अधिकारी गर्वित की शादी सुर्खियों में है। ऐसा होने के पीछे का कारण है कन्यादान की रस्म का न हो। हिंदी संस्कृति के अनुसार, कन्यादान का बहुत बड़ा महत्व है लेकिन IAS ने अपने पिता से यह कहकर इस रस्म को नहीं कराया कि मैं दान करने की चीज नहीं हूँ, आपकी बेटी हूँ।

Ias tapasya parihar denys kanyadan marriage system

तपस्या के अनुसार, बचपन से ही समाज की इस विचाधारा को लेकर ऐसा लगता था कि मेरी इच्छा नहीं होने के बाद भी आखिर कैसे कोई मेरा कन्यादान कर सकता है। धीरे-धीरे तपस्या ने इस बात को अपने परिवार के बीच चर्चा की और परिवार वाले भी उनकी बात से सहमत हुए। उसके बाद वर पक्ष के लोग भी इस बात के लिए राजी हुए और बिना कन्यादान की रस्म किए उनकी शादी संपन्न हुई।

IAS तपस्या का मानना है कि विवाह दो परिवारों के बीच होता है। इसलिए इसमें बड़ा-छोटा, ऊंचा-नीचा होना सही नहीं है और किसी का कन्यादान क्यों होना? यही कारण है तपस्या ने भी अपनी शादी से कन्यादान की रस्म को शादी से अलग रखा।

Ias tapasya parihar denys kanyadan marriage system

IFS गर्वित ने कही ये बात-

वहीं IFS गर्वित का कहना है कि शादी के बाद क्यों लड़की को पूरी तरह बदलना होता है? मांग भरने की बात हो या कोई ऐसी परंपरा जो सिद्ध करें कि लड़की शादीशुदा है। लड़को के लिए ऐसी रस्मे लागू नहीं होती है। ऐसे में हमें समाज में बने इस प्रकार की मान्यताओं को धीरे-धीरे दूर करना चाहिए।

Ias tapasya parihar denys kanyadan marriage system

तपस्या के पिता हैं बेहद खुश

IAS तपस्या के पिता इस शादी से बेहद खुश हैं और उनका कहना है कि इस तरह के रस्मो से अब लड़की को पिता के घर या जायदाद से बेदखल करने की तरह देखा जाता है।

Ias tapasya parihar denys kanyadan marriage system

वैदिक मंत्रों के साथ पूरी हुई शादी

हालांकि, IAS तपस्या और IFS गर्वित की शादी वैदिक मंत्रों और बाकी के पूरे रस्मों रिवाज के साथ हुई। उन्होनें शादी में कन्यादान की रस्म न निभाकर एक अनोखा मिसाल पेश किया है। बता दें कि IAS तपस्या समाज में समानता चाहती हैं।

Shikha Singh
Shikha is a multi dimensional personality. She is currently pursuing her BCA degree. She wants to bring unheard stories of social heroes in front of the world through her articles.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles