Wednesday, September 28, 2022

Buy now

स्लम एरिया में रहने वाली एक महिला के ताने ने एक डॉक्टर को बना दिया कलेक्टर: IAS Priyanka Shukla

कहते हैं ना कि “परिश्रम के बिना कुछ भी मुमकिन नहीं है”। जो अपनी जिंदगी में जी तोड़ मेहनत करते हैं उन्हें सफलता जरुर मिलती है। अगर लाइफ में एक सफल इंसान बनना है तो मेहनत जरूर करनी पड़ती है। वैसे तो बहुत सारे युवाओं का सपना होता है कि वह यूपीएससी के परीक्षा पास कर के आईपीएस या आईएएस बनें परंतु उन सभी युवाओं में कुछ ही युवा को यह सफलता हासिल होती है। जो युवा जी तोड़ मेहनत करते हैं और यूपीएससी की तैयारी करते हैं उन्हें अंततः सफलता जरुर हासिल होती है।

आज हम आपको एक ऐसे ही शख्स की कहानी बताएंगे जिन्होंने अपने जिंदगी में लोगों के ताने सुने। परंतु उन लोगों के ताने की वजह से उनकी जिंदगी में एक मोड़ आ गया और वह यूपीएससी की तैयारी करने लगी। जिसकी वजह से आज वो एक आईएएस अधिकारी बन गई हैं। उनका सपना था कि वह एक डॉक्टर बनें परंतु परिवार वालों का सपना था कि यह एक आईएएस अधिकारी बनें। अपनी मेहनत और लगन से आज वह एक आईएएस ऑफिसर बन गई हैं। आइए जानते हैं उनकी सफलता की कहानी।

प्रियंका शुक्ला (Priyanka Shukla)

प्रियंका शुक्ला जिनका सपना था कि वह बड़ा होकर डॉक्टर बनेंगे। परंतु उनके घर वाले चाहते थे कि मेरी बच्ची आगे चलकर के एक आईएएस अधिकारी बनें। प्रियंका के पिता उत्तर प्रदेश के हरिद्वार में जिलाधिकारी के विभाग में काम करते थे। जिसकी वजह से उनके पिता चाहते थे कि मेरी भी बेटी बड़ी होकर के एक आईएएस अधिकारी बने और उसके घर के आगे कलेक्टर का नेम प्लेट लगे। परंतु प्रियंका कुछ और ही बनना चाहती थी।

यह भी पढ़ें:-लोकल ट्रेन में पिता और बेटी के बीच प्रेम का यह वीडियो लोगों को कर रहा भाव-विभोर, लोग दे रहे हैं अपनी प्रतिक्रिया

प्रियंका अपनी प्रारंभिक पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद इन्होंने एमबीबीएस का इंट्रेंस एग्जाम दिया जिसके रिजल्ट काफी बेहतर और अच्छा था। रिजल्ट निकालने के बाद प्रियंका लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में दाखिला ले लिए। इन्होंने मन लगाकर के डॉक्टरी की पढ़ाई की। जब इनकी पढ़ाई पूरी हो गई तो ये लखनऊ में ही अपनी प्रेक्टिस शुरू कर दी। प्रियंका बताती हैं कि उन्हें काफी खुशी हो रही थी कि उनका सपना आखिरकार पूरा हो गया। अपनी जिंदगी में जो बनना चाहती थी वह अंततः बन गई। परंतु तभी इनके लाइफ में एक मोड़ आ गया। जिसके बाद उन्होंने डॉक्टरी छोड़ यूपीएससी की तैयारी में लग गई।

एक ताने ने बदल दी जिंदगी

प्रियंका बताती हैं कि जब मैं डॉक्टरी की प्रैक्टिस करने के लिए और यहां के लोगों को जांच करने के लिए स्लम एरिया में गई तो मैंने वहां देखा कि एक औरत अपने बच्चे के साथ गंदा पानी पी रही थी और अपने बच्चे को भी पिला रही थी। जब मैंने इस महिला को गंदे पानी पीते हुए देखी तो मैं महिला के पास जाकर गंदा पानी पीने से रोका। मेरे रोकने से महिला ने मेरे तरफ गुस्से में देखते हुए बोली कि तुम यहां की कलेक्टर हो जो हमें इस पानी को पीने से रोक रही हो। प्रियंका ने जब उस महिला की इस जवाब को सुनी तो वह काफी आश्चर्यचकित हो उठी। जिसके बाद उन्होंने फैसला कर लिया कि अब मैं कलेक्टर बन के दिखाऊंगी और लोगों की सेवा करूंगी।

यूपीएससी पास कर बनी आईएएस अधिकारी

प्रियंका शुक्ला बताती हैं कि जब मैंने उस महिला की बात को सुन आज इसके बाद मैंने फैसला कर लिया कि अब हमें आईएएस अधिकारी बनना है। जिसके बाद मैंने यूपीएससी की तैयारी करनी शुरू कर दी। मैं काफी मेहनत और लगन के साथ यूपीएससी की तैयारी कर रही थी। जब मैंने यूपीएससी परीक्षा का पहला अटेम्प्ट दिया तो मुझे निराशाजनक हाथ लगा और मैं इस परीक्षा में सफल रही। परंतु मैंने अपनी कोशिश नहीं छोड़ी और फिर से परीक्षा की तैयारी में लग गई। अगली बार जब साल 2009 में मैंने यूपीएससी परीक्षा दी तो इस बार मुझे सफलता हासिल हो गई और मैं एक आईएएस अधिकारी बन गई।

यह भी पढ़ें:-माँ के देहांत के बाद पिता ने घर से निकाला, नानी के घर रहकर पढ़ाई की और मैट्रिक में टॉप की

आज प्रियंका शुक्ला यूपीएससी परीक्षा पास कर के एक आईएएस अधिकारी बन कर अपने पिता के सपने को साकार किया इसके साथ-साथ इन्होंने अपने परिवार के भी सपने को साकार कर दिए।

प्रेरणा

प्रियंका शुक्ला से हम लोगों को यह प्रेरणा मिलती है कि अगर हम अपने लक्ष्य तक पहुंचने की ठान लें तो हमें कोई भी असफलता नहीं रोक सकती है। अगर जिंदगी में कुछ बनने की चाह हो तो उसे मेहनत और लगन के साथ करना चाहिए जिससे अंततः सफलता जरूर हासिल होती है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles