Sunday, February 5, 2023

Buy now

बेटी ने अपने पिता की 7000 करोड़ की कम्पनी Bisleri को संभालने से मना कर दिया, जानिए वजह

अपने पिता के करोड़ की प्रॉपर्टी को लेकर हर घर में विवाद होता रहता है। यह आज से नहीं बल्कि कई सालों से चलते आ रहा है। यहां तक कि प्रॉपर्टी को लेकर लोग हत्या भी कर देते हैं। वही अगर बात की जाए बड़े-बड़े उद्योगपतियों की तो इसके घरों में भी विवाद होता रहता है। बड़े-बड़े उद्योगपति की कंपनी में उत्तराधिकारी को लेकर विवाद सुनने को मिलते हैं परंतु हम आज एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपने पिता के 7000 करोड़ की संपत्ति को ठुकरा दिए और कंपनी के उत्तराधिकारी बनने से इनकार कर दिया आईए जानते हैं वह कौन है।

रमेश जे चौहान (बिसलेरी के मालिक)

भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वाटर बिसलेरी (Bisleri) के मालिक रमेश जी चौहान ने अपनी कंपनी को टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट लिमिटेड को बेचने की तैयारी कर रही है। बिसलेरी (Bisleri) कंपनी के लगभग 30 साल हो चुके हैं। आज इस कंपनी की वैल्यू 7000 करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। एक इंटरव्यू के दौरान रमेश जे चौहान ने बताया कि वह अपनी कंपनी के उत्तराधिकारी अपनी बेटी जयंती चौहान को बनाना चाहते थे परंतु जयंती चौहान ने अपने पिता के कंपनी में उत्तराधिकारी बने से इंकार कर दिया। रमेश जे चौहान कहते हे कि मेरी बेटी को इस व्यवसाय में कोई दिलचस्पी नहीं है इसीलिए आज हमें इस कंपनी को बेचने का फैसला कर लिया है।

यह भी पढ़ें:-इस जनजाति की महिलाएं होती हैं बहुत यूनिक, पहनती हैं बेहद खूबसूरत पोशाक, देखें तस्वीरें

जयंती चौहान(Jayanti Chauhan)

रमेश जे चौहान की इकलौती बेटी जयंती चौहान के प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली से शुरु हुई थी। इसके बाद वह मुंबई न्यूयॉर्क में भी अपना बचपन बिताए हैं। इन्होंने लंदन से फैशन डिजाइनिंग में ग्रेजुएशन के पढ़ाई के इसके बाद Instituto Marangoni Milano से फैशन स्टाइलिंग का कोर्स भी किया है। इसके अलावा जयंती चौहान ने लंदन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडी से रवि की डिग्री दे हासिल किए हैं। फिलहाल जयंती चौहान बिसलेरी इंटरनेशनल (Bisleri International Company) कंपनी की वाइस चेयरपर्सन हैं।

बिसलेरी कंपनी को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई

जयंती चौहान अपनी पिता के बिसलेरी इंटरनेशनल कंपनी को शीर्ष तक पहुंचाने में काफी अहम भूमिका निभाई है। जब जयंती 24 साल की थी उसी समय इन्होंने अपनी पिता के कारोबार के जिम्मेदारी संभाली शुरू करती थी। इन्होंने सबसे पहले दिल्ली की ऑफिस की जिम्मेदारी संभाल इसके बाद साल 2011 में मुंबई की ऑफिस में अपना अहम भूमिका निभाई। जयंती बिसलेरी कंपनी की एड और मार्केटिंग की सारी जिम्मेदारी संभालती हैं। इन्होंने अपनी लगन और मेहनत से आज पेश की सबसे बड़ी पैकेज्ड वॉटर कंपनी बना दिए हैं आज पूरे देश भर में 122 ऑपरेशनल प्लांट हैंं और 4500 से ज्यादा डिस्ट्रीब्यूटर्स नेटवर्क फैला हुआ है।

यह भी पढ़ें:-कौशांबी के युवाओं ने अंडा उत्पादन को बनाया आत्मनिर्भरता स्रोत, 1 करोड़ से अधिक अंडे का उत्पादन

उत्तराधिकारी बनने से क्यों किया इंकार

देश की सबसे बड़ी पैकेज्ड वाटर कंपनी बिसलेरी (Bisleri) आज टाटा के यहां तो बेचने की तैयारी कर रही है। एक इंटरव्यू के दौरान बिसलेरी (Bisleri) के मालिक रमेश जे चौहान भावुक होकर बोले कि इस संपत्ति को संभालने वाला कोई नहीं है इसीलिए हमने फैसला किया है कि इस कंपनी को टाटा की हाथों बेच दें। वहीं जयंती चौहान ने अपने लिंक्डइन प्रोफाइल पर ट्वीट करते हुए सिर्फ इतना लिखा है कि “कहानी के दो पहलू होते हैं” जयंती के इस पोस्ट को देखकर सो समितियां में तहलका मच गया है और लोग जयंती के बारे में जानने के लिए वेबसाइट पर सर्च करने लगे हैं और आज जयंती के इस काम को काफी तारीफ की जा रही है। आज बिसलेरी इंटरनेशनल कंपनी (Bisleri Internationl Company) का वैल्यू 7000 करोड़ तक पहुंच गया है फिर भी इन्होंने इतने बड़े कंपनी के उत्तराधिकारी बनने से इंकार कर दिया।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles