Tuesday, October 4, 2022

Buy now

वोडाफोन के कुत्ते से लेकर Parle-G की लड़की, वो खास विज्ञापन जिन्होंने देश पर अपनी छाप छोड़ दी: जरूर देखिए

कोई भी कम्पनी जब अपना कदम बिज़नेस में रखती है तो उसको जमाने के लिए, उसे पापुलर करने के लिए उसे लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करना पड़ता है। जिसके लिए हर कम्पनी जी तोड़ मेहनत करती है, और ऐसे में हर कम्पनी अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए मार्केटिंग का सहारा लेती है। एसे में टीवी पर विज्ञापन एक अच्छा तारिका है। लेकिन टीवी पर सिर्फ विज्ञापन दिखाना हीं काफी नहीं होता, विज्ञापन अनोखा और उसमें क्रिएटिव भी होना चाहिए। प्रोडक्ट का विज्ञापन जितना नया और अनोखा होगा वह दर्शकों उतना ही आकर्षित करेगा। तभी वह दर्शकों को पसंद आएगा और कम्पनी को उससे फायदा होगा।

आईए जानते हैं कुछ ऐसे विज्ञापनों के बारे में जिन्होंने डायरेक्ट लोगों के दिलों तक पहुंचकर टीवी पर धूम मचा दी और अपनी कम्पनी को भारत के कोने – कोन में लोकप्रिय कर दिया।

पारले जी (Parle-G)

 creative advertisement

पारले -जी भारत का सबसे लोकप्रिय बिस्किट है। इस कम्पनी की शुरूआत 1929 में मुंबई के विले पार्ले हुई थी। अस्सी के दशक तक इस बिस्किट को ग्लूको बिस्किट कहा जाता था. बाद में इसको ऑफिशियल नाम दिया गया, ” पारले जी”। नाम बदलने के साथ कवर और पैकेजिंग भी बदली। पारले – जी ने अपने बिस्किट के पैकेट पर एक छोटी सी बच्ची का फोटो लगाकर विज्ञापन किया और यह इतना लोकप्रिय हुआ की पुरे भारत में छा गया।

जू जू (Zoozoo)

वोडाफोन अपने यूनीक विज्ञापन के लिए जाना जाता है, फिर वो हैप्पी 2 हेल्प का विज्ञापन हो या फिर वोडाफोन का . जू जू। वोडाफोन कम्पनी ने 2009 के आईपीएल (IPl 2) के दौरान सर्विस की मार्केटिंग के लिए जूजू के विज्ञापन की एनिमेटेड सीरीज शुरू की। इस विज्ञापन को लोगों ने बहुत पसंद किया और वोडाफोन पूरे भारत में लोकप्रिय काम्पनी बन गई। दिलचस्प बात यह है कि वोडाफोन में आने वाले जूजू जो एनिमेटेड से दिखते थे, असल में वास्तविक इंसान थे जिसे ओगल्वी और माथर ने तैयार किया था और जिसके कांसेप्ट का आइडिया राजीव राव का था।

बूमर मैन (Boomar-Man)

 creative advertisement of india

बूम- बूम बूमर हमारा प्यारा बूमर हर शख्स के बचपन की फेवरेट लाइन। शायद हीं कोई होगा जो बचपन में ये बोल कर च्युंगम ना फुलाया होगा। बूम- बूम बूमर जो उस समय बच्चों के सिर चढ़कर बोली ऐसे में इस विज्ञापन के जरिए लोगों के सामने बूमर मैन की ऐसी इमेज बन गई की वो हर बच्चे का सुपरहीरो बन गया, वो सुपरहीरो जो बड़े से बड़े काम असानी से कर देता। समय के साथ भले हीं आज ये ऐड फीकी पड़ गई हो लेकिन इस विज्ञापन ने कम्पनी को एक नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया था।

अमूल गर्ल (Amul Girl)

creative advertisement of india

अमूल को हमेशा हीं बेस्ट इंडियन विज्ञापन कांसेप्ट के रूप में देखा जाता है। अमूल के इस विज्ञापन में हाथ से तैयार एक युवा लड़की का कार्टून है जिसमें लड़की के बाल नीले होते हैं और उसने सुन्दर सी पोनी बनाई होती है। पोल्का डॉटेट फ्रॉक पहने वो लड़की बेहद खूबसूरत लगती है। इस कार्टून ने अमूल को एक ब्रांड के रूप में स्थापित करने में बहुत मदद किया। इस विज्ञापन की खासियत यह है कि राजनीतिक, फिल्म और सामाजिक मुद्दों को जोड़ते हुए यह हर बार नए रूप में क्रिएट किया जाता है। इस विज्ञापन को (ASP) एजेन्सी ने साल 1967 में तैयार किया था। आज भी अमूल गर्ल सबकी फेवरेट है।

निरमा गर्ल (Nirma Girl)

creative advertisement of india

“वाशिंग पाउडर निरमा” ये विज्ञापन इतना लोकप्रिय हुआ की उस समय ये हर घर का पसंदीदा डिटर्जेंट बन गया।
यह एक गुजरात बेस्ट डिटर्जेन्ट कंपनी का विज्ञापन था. इस विज्ञापन में सफेद रंग की फ्रॉक पहने एक लड़की जिंगल “वाशिंग पाउडर निरमा” पर डांस करती हुई नजर आती है। यह विज्ञापन लगभग 40 साल पुराना हो गया पर आज भी जादू कम नहीं हुआ। “वाशिंग पाउडर निरमा” को विज्ञापन जगत में बेस्ट जिंगल का खिताब हासिल है।

हच डॉग ( Hutch Dog)

creative advertisement of india

“Wherever you go, our network follows” इसका मतलब आप जहां जायेंगे, हमारा नेटवर्क आपके साथ रहेगा। एक साधारण से आइडिया के साथ (Hutch Company) ने 2003 ये विज्ञापन बनाया। ये विज्ञापन लोगों का ध्यान अपनी तरफ खूब खींचा और हच को खूब लोकप्रियता दिलाई। इस ऐड में एक छोटे से बच्चे के साथ एक छोटे कुत्ते को दिखाया गया था. बच्चा जहां जाता है कुत्ता उसका पीछा करता हुआ वहां पहुंच जाता है। हच का ये अनोखा विज्ञापन मुम्बई के वेस्ट एजेंसी ओगिल्वी एंड माथर ने हीं तैयार किया था। यह सिंपल कांसेप्ट लोगों को इतना पसंद आया कि यह उस समय का सबसे बड़ा हिट बन गया।

संतूर गर्ल (Santoor Girl)

creative advertisement of india

संतूर साबुन के ऐड में भले हीं कई मॉडल दिखाई दी हों पर इसका कंसेप्ट नहीं बदला। सालों से संतूर के लिए एक हीं लोकप्रिय कॉन्सेप्ट का इस्तेमाल होते आया है। इसमें संतूर साबुन लगाने वाली महिला को उसकी चमकती हुई त्वचा की वजह से कॉलेज की लड़की समझ लिया जाता है, पर असल में वो एक बच्चे की मां होती है। विज्ञापन के इस कांसेप्ट की वजह से संतूर साबुन की देशभर में लोकप्रियता बढ़ गई।

लिज्जत पापड़ (Lijjat Papad)

creative advertisement of india

लिज्जत पापड़ भारत का ज्यादा पसंद किया जाने वाला पापड़ रहा है। लिज्जत पापड़ के ‘शादी हो या त्योहार, लिज्जत पापड़ हो हर बार’ की टैगलाइन के साथ निकला हुआ विज्ञापन बहुत लोकप्रिय हुआ जिसे लोग आज भी याद करते हैं।

धारा जेलेबी (Dhara Jelebhi)

creative advertisement of india

90 के दशक में धारा ऑयल कम्पनी ने एक छोटे से बच्चे को लेकर जलेबी का एक विज्ञापन निकाला। जिसमें क्यूट सा बच्चा जलेबी के चलते घर छोड़कर जाने का विचार बदल देता है।इससे धारा ऑयल कंपनी की गिरती हुई लोकप्रियता भारत में फिर से बढ़ गई।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles