Tuesday, October 4, 2022

Buy now

इन बातों का ध्यान रख कर आसानी से घर पर उगाएं पालक, होगा शुद्ध और बेहतर पैदावार

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हरी सब्जियां हमारी सेहत के लिए बेहद ही लाभदायक होती हैं। हरी सब्जियों में मौजूद विटामिंस और एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर को न सिर्फ मजबूती प्रदान करता है बल्कि उसे स्वस्थ रखने में भी मदद करता है। यूं तो कई प्रकार की हरी सब्जियां होती हैं लेकिन उन सबमें पालक का एक अलग ही महत्व होता है। पालक एक पत्तेदार सब्जी होती है जो स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में अहम भूमिका निभाती है। आज के इस खास पेशकश में हम बहुत पालक की करेंगे कि कैसे हम घर पर ही पालक का बेहतर उत्पादन कर सकते हैं

हम लोग यह भी जानते हैं कि जो सब्जियां हमें बाजार में उपलब्ध होती हैं वह शुद्ध एवं ताजा नहीं होती हैं क्योंकि उनको उपजाने में केमिकल और कीटनाशक का प्रयोग किया जाता है। इस लिहाज से वह हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं। ऐसे में घर पर उगाई गई सब्जी शुद्ध एवं ताजा होगी और हमें स्वास्थ्य लाभ देगी। आईए जानते हैं कि हम घर पर ही गमले में या घर की छत पर पालक उगा सकते हैं। इस लेख में हम आपको पालक उगाने से संबंधित सभी प्रमुख बातों को बताएंगे।

यह भी पढ़ें:-आनन्द महिन्द्रा ने शेयर किया फनी वीडियो, लोग हंसते-हंसते हो रहे लोट-पोट: देखें

पालक की खेती के लिए मिट्टी का चयन

पालक की खेती के लिए पहली महत्वपूर्ण बात यह है कि हम उसके लिए बेहतर मिट्टी का चयन करें। यह मिट्टी हम किसी भी उपजाऊ खेत या गार्डन से ला सकते हैं। मिट्टी लाने के बाद उसे एक-दो दिन धूप दिखाएं ताकि उसमें मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो जाए और फिर उसे हल्के पानी से भिगो दें ताकि मिट्टी में नमी आ जाए और बीज का अंकुरण सही हो।

Know how to cultivate spinach
पालक की खेती

पालक की खेती के लिए जगह का चुनाव

मिट्टी तैयार होने के बाद अब अगला स्टेप जगह चुनाव का है। आप अपने घर में किस जगह पालक के पौधों को लगाएंगे या उगाएंगे, यह आप पर निर्भर करता है। यूं तो पालक के पौधे कहीं भी ग्रोथ कर सकता है बशर्ते कि उसे उचित पोषण के साथ सूर्य का प्रकाश ही मिले। ऐसे में आप पालक के पौधों को बालकनी छात्र या घर के गार्डन आदि में आसानी से लगा सकते हैं।

पालक की खेती में प्राकृतिक खाद का प्रयोग करें

पालक के बेहतर ग्रोथ के लिए उसमें खाद का प्रयोग करना आवश्यक होता है। ध्यान रहे कि हम पालक की खेती में प्राकृतिक खाद का ही प्रयोग करें। हम गोबर से बने हुए खाद भी इसमें डाल सकते हैं, किचन वेस्ट से बने हुए खाद भी पालक के पौधों को बेहतर ग्रोथ देता है या फिर फल के छिलकों को सुखाकर बनाए गए पाउडर का भी इस्तेमाल हम खाद के रूप में कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:-“भाड़ में जाओ” का प्रयोग सब करते हैं लेकिन इसका असली मतलब शायद हीं किसी को पता है: जानें

पालक की खेती में धूप और पानी का रखें विशेष ध्यान

पालक एक ऐसा पौधा है जिसे सूरज की तेज और सीधी रोशनी की जरूरत नहीं होती है इसलिए इसे ऐसी जगह पर ही लगाएं जहां पर सूर्य की सीधी किरणें ना आती हों। यदि हम पालक की सिंचाई की भी बात करें तो पालक के पौधों को ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती है। आप दिन में एक बार इसकी सिंचाई कर सकते हैं।

इन सभी बातों को अपनाकर आप पालक की उत्तम खेती कर सकते हैं और आपने स्वास्थ्य को मजबूत बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

Vinayak Suman
Vinayak is a true sense of humanity. Hailing from Bihar , he did his education from government institution. He loves to work on community issues like education and environment. He looks 'Stories' as source of enlightened and energy. Through his positive writings , he is bringing stories of all super heroes who are changing society.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles