Thursday, September 29, 2022

Buy now

यूपी के इस किशोर की मुहिम पानी की बात से आम लोग हुए जागरूक, पर्यावरण को बचाने के लिए 9वीं से ही कर दी शुरुआत

जल और पर्यावरण संरक्षण के लिए बातें करते तो कितने लोगों को सुना जाता है लेकिन बहुत कम लोग असल जिंदगी में इस मामले में कुछ करते हैं। आइए जानते हैं एक ऐसे लड़के के बारे में जिसने जल बचाव के लिए अपना अभियान गांव – गांव तक चलाया और लोगों को जल जीवन तथा जल बचाव के लिए जागरूक किया। (Water and environment conservation)

पर्यावरण से प्रेम

उत्तर प्रदेश के रहने वाले Sawan Kanaujia कक्षा 9वी से ही पर्यावरण संरक्षण के प्रति समर्पित है। उसने जल संरक्षण तथा पर्यावरण संरक्षण को लेकर कई तरह के अभियान शुरू किए हैं। (Sawan kanaujia from UP)

कैसे हुई इसकी शुरुआत?

जब सावन नौवीं कक्षा में पढ़ रहे थे तब उन्हें अपने स्कूल के नल के से पानी टपकते हुए दिखा और उन्होंने तुरंत ही जाकर उस नल को बंद कर दिया तब से उनके मन में या विचार आया कि इस पर जल को व्यर्थ करने से रोकना चाहिए। इस मुहिम की शुरुआत उन्होंने खुद से ही की जब भी वह सुबह दांत ब्रश करते उस समय नल को बंद कर देते, सावर की जगह बाल्टी से नहाते और ऐसी ही छोटी छोटी चीजों से पानी बचाया। धीरे-धीरे उन्हें इन सब चीजों की आदत हो गई जिसके बाद उन्होंने लोगों को भी इस बारे में प्रेरित करने का सोचा। तब से अपने संरक्षण अभियान के तहत गांव-गांव जाकर लोगों को जागरूक करने का काम करते हैं और उन्हें शपथ दिलाते हैं कि वह आगे से जल व्यर्थ नहीं करेंगे।

“पानी की बात”

सावन ने जल संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए “पानी की बात” नाम से एक मुहीम चलाया। इस मुहिम के तहत वाह गांव गांव जाते हैं और लोगों को यह बताते हैं कि पानी हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है और इसे व्यर्थ करने से रोकना चाहिए वरना हम पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस जाएंगे। (Pani ki baat campaign)

लोगों की आलोचनाओं का भी करना पड़ा सामना।

शुरुआत के दिनों में उन्हें लोगों की आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा, कभी-कभी लोग सावन के पिता से यह भी बोलते थे कि आपका बच्चा गलत रास्ते पर चला गया है और अब वह 12वीं की भी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाएगा। इस वजह से सावन का घर में भी विरोध होता रहा लेकिन इन सब के बावजूद भी सावन ने यह साबित किया कि उसकी एक सोच से भविष्य में जल संरक्षण के प्रति काफी जागरुकता फैलेगी।
इस नेक काम के लिए उन्हें पुरस्कार भी मिला।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles