Tuesday, October 4, 2022

Buy now

अपनी लाखों की नौकरी छोड़ बने किसान, आज ‘ज़ीरो बजट’ खेती से काम रहे हैं 12 लाख रुपये: Sankalp Sharma

आज के समय में देश का कोई भी किसान अपने बेटे को खेती-बाड़ी में नहीं उतारना चाहता है। वो चाहते हैं कि उनका बेटा- इंजीनियर, डॉक्टर या कुछ और बने पर किसान नहीं बने। इसके बावजूद भी कुछ ऐसे भी नौकरी वाले लोग हैं, जिन्होंने लाखों की नौकरी छोड़कर खेती करना चुना है। आज हम बात करेंगे एक ऐसे हीं शख्स की, जिसने लाखों की नौकरी छोड़ कर किसान बनना पसंद किया है।

लाखों रुपये की छोड़ी नौकरी

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के विदिशा के रहने वाले संकल्प शर्मा (Sankalp Sharma) का बचपन से हीं खेती के प्रति लगाव रहा है। उन्होंने MBA की पढ़ाई पूरी करने के बाद लगातार 10 सालों तक बैंकिंग सैक्टर में जॉब किया और लाखों रूपये महिने की नौकरी छोड़ दी है तथा कृषि के क्षेत्र में सकारात्मक प्रयास किया है।

नौकरी छोड़ना था कठिन फैसला

खेती के तरफ ध्यान आकर्षित होने के कारण बैंकिंग क्षेत्र की 1 लाख रुपए सैलरी की नौकरी छोड़ना बहुत ही कठिन काम था। इस वजह से नौकरी छोड़ने का उनका (Sankalp Sharma) फैसला काफी जोखिम भरा था। उन्हें एहसास था कि मैं खेती में पहले दिन से ही लाभ नहीं कमा सकता हूँ, इसलिए उन्होंने अगले 2 वर्षों के लिए अपने खर्च को काफी सीमित भी किया।

ऐसे शुरु की खेती

संकल्प शर्मा (Sankalp Sharma) ने खेती की शुरुआत अपने 12 एकड़ पैतृक ज़मीन पर की, जिस पर उन्होंने प्याज, अदरख, लहसुन, मिर्च, टमाटर इत्यादि उगाया। वे 1 एकड़ ज़मीन में कम से कम 12 से 14 क्विंटल शरबती गेहूँ का उत्पादन करते है। वैसे बाज़ार में इसकी क़ीमत 3 हज़ार से लेकर 32 सौ रुपए प्रति क्विंटल है।

जैविक खेती का लिया निर्णय

उन्होंने (Sankalp Sharma) खेती के दौरान देखा कि लोग रसायनिक खाद से उपजे सब्जियों और फलों का खाने में प्रयोग करते हैं, जिसमें पाए जाने वाले सारे पोषक तत्व ख़त्म हो जाते हैं। इसलिए इन्होंने आगे से जैविक खेती करने का फ़ैसला लिया। अपने खेतों में सिर्फ़ गाय के गोबर के खाद का इस्तेमाल करते हैं और कीटनाशक दवाइयों आम, अमरूद, नीम की पत्तियों का रस और उसके साथ-साथ अदरक लहसुन और मिट्टी को मिलाकर बनाते हैं।

लाखों रूपये की बचत

संकल्प शर्मा (Sankalp Sharma) अपने खेतों का काम नर्मदा नेचुरल फार्म द्वारा कराते हैं। उनके खेतों में जिन-जिन चीजों का उत्पादन होता है, उसे वे थोक और खुदरा दोनों तरीके से बेचते हैं तथा अच्छी-खासी कमाई करते हैं। आज के समय में उनके ग्राहक कई बड़े शहरों जैसे बेंगलुरु, दिल्ली, मुंबई, पुणे तक हो चुके हैं। उन्होंने अपने खेतों के लिए 5 लोगों को रोजगार भी दिया है और इसके साथ ही उनकी सालाना आमदनी भी 12 से 13 लाख रुपए हो चुकी है।

लोगों के लिए बने प्रेरणा

लाखों की नौकरी छोड़ खेती के तरफ कदम रखने वाले संकल्प शर्मा (Sankalp Sharma) ने समाज को एक बहुत हीं अच्छा सन्देश दिया है। जी हां, उन्होनें आज के समय में खेती को घाटे का सौदा बता कर छोड़ने वाले लोगों के लिए बहुत हीं अच्छा संदेश देने का काम किया हैं और अपने मेहनत और संघर्ष के बदौलत उन्होंने कृषि के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता हासिल की है।

निधि भारती
निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles