Thursday, September 29, 2022

Buy now

रिक्शा चलाने वाले का बेटा बना आईएएस अफसर, मिला 21 साल में सबसे युवा डीएम बनने का खिताब

आमतौर पर तो हमलोगों ने यही देखा है कि पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स 20-21 साल की उम्र में अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करते हैं तथा अपने जीवन को सफल बनाने के लिए संघर्ष करना शुरू करते हैं। आज हम बात करेंगे, एक शख्स की जिसने बहुत कम उम्र में हीं तमाम कठिनाईयों का सामना करते हुए आईएएस बनने तक का सफर पूरा किया है।

कौन है वह शख्स ?

हम अंसार अहमद शेख (IAS Ansar Ahmad Shaikh) की बात कर रहे हैं, जो मूल रुप से (Maharastra) के जालना जिले के शेलगांव के रहने वाले हैं। उनक जन्म 1 जून 1995 को हुआ था। अंसार ने 12वीं कक्षा में 91 फीसदी अंक प्राप्त किए थे तथा 12वीं के बाद पुणे के फर्गुसन कॉलेज से राजनीति विज्ञान में बीए की डिग्री हासिल करके अपने खानदान में पहले ग्रेजुएट बन गए। ―Success story of IAS Ansar Ahmad Shaikh.

पिता चलाते हैं ऑटो रिक्शा

अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh) बहुत हीं गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे। उनका परिवार कभी बीपीएल श्रेणी में हुआ करता था। उनके पिता ने बहुत हीं गरीबी में अपने बच्चों को पढ़ाने का काम किया है। बता दें कि उनके पिता अहमद शेख अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए ऑटो रिक्शा चलाते थे। मां अजामत शेख खेती में मजदूरी करती थीं।

छोटे भाई ने भी की पढ़ाई में मदद

अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh) के घर में गरीबी के कारण एक ऐसी परंपरा बनी थी कि, उनके पापा अपनी बेटियों की शादी कम उम्र में हीं कर देते थे। पारिवारिक गरीबी बहुत ज्यादा थी। इस कारण इनके भाई ने छठीं क्लास के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी और अपने चाचा के गैरेज में काम करना शुरु कर दिया था। 12वीं में अच्छे अंक हासिल करने के बाद जब अंसार शेख का दाखिला पुणे के फर्गुसन कॉलेज में हुए उसके बाद उनके पिता से उनके अंसार के पढ़ाई का खर्च नहीं चला तब उनके छोटे भाई ने 6000 रूपये हर महीने देकर उनकी पढ़ाई में मदद की।

प्रोफेसर के कहने पर की यूपीएससी की तैयारी

12वीं के बाद जब अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh)का दाखिला पुणे के फर्गुसन कॉलेज में हुआ, उस समय से हीं उनके कॉलेज के प्रोफेसर ने उनके अंदर छुपे काबिलियत को पहचाना तथा पहले वर्ष से हीं उन्हें यूपीएससी की तैयारी करने को सलाह दी। जिसके बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करने के लिए एक कोचिंग क्लास ज्वाईन की और जी-जान लगा कर मेहनत की।

हुई कामयाबी हासिल

अपने मेहनत के बदौलत अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh) यूपीएससी परीक्षा 2015 में 361वीं रैंक हासिल कर 21 साल की उम्र में आईएएस बने। यह उनके उम्र का एक ऐसा दौर था, जिस उम्र में बाकी बच्चे अपने जीवन का लक्ष्य हीं निर्धारित करते हैं।

सबसे कम उम्र के आईएएस अधिकारी बने

अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh) ने अपने मेहनत और संघर्ष के बदौलत 21 साल के उम्र में हीं सफलता हासिल की है। वे देश के सबसे कम उम्र के आईएएस अधिकारी हैं। साथ हीं साथ वे कम उम्र में आईएएस बनने वाले युवाओं के सूची में भी शामिल हो चुके हैं।

बंगाल कैडर के बने आईएएस अधिकारी

अंसार अहमद शेख (IAS Ansar Ahmad Shaikh) पश्चिम बंगाल कैडर के आईएएस बन चुके हैं। उनकी पहली पोस्टिंग 2016 में बतौर एसडीओ पश्चिम बंगाल के कूच विहार में हुआ था। फिलहाल वें एमएसएमई टेक्सटाइल विभाग में ओएसडी हैं।

लोगों के लिए बने हैं प्रेरणा

महाराष्ट्र के रहने वाले अंसार शेख (IAS Ansar Shaikh) ने 21 साल के उम्र में आईएएस बन कर इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज कराया है। उनके लिए इस मुकाम तक पहुंचना एक बहुत हीं कठिन काम था क्योंकि आज तक उनके परिवार का कोई भी सदस्य ग्रेजुएट नहीं था। उनकी यह कामयाबी समाज के सभी लोगों के लिए प्रेरणा बनीं हुई है। उन्होंने यह कर दिखाया कि सही दिशा में किए गए संघर्ष सफलता की कुंजी होती है।

निधि भारती
निधि बिहार की रहने वाली हैं, जो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अभी बतौर शिक्षिका काम करती हैं। शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के साथ ही निधि को लिखने का शौक है, और वह समाजिक मुद्दों पर अपनी विचार लिखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles