Tuesday, October 4, 2022

Buy now

नौकरी के साथ जारी रखी अपनी पढ़ाई और बन गए आईएएस अफसर, कैंडिडेट्स के लिए दी ये सलाह: देखें वीडियो

ऐसा माना जाता रहा है कि इंसान एक वक्त पर एक ही काम कर सकता है लेकिन कुछ इंसानों के पास एक वक्त पर एक से अधिक काम करने की क्षमता होती है। मंजिल को पाने की चाह में चाहे कितनी भी कठिनाइयां है वह कोशिश करना नहीं छोड़ते हैं।

UPSC की परीक्षा में टॉप करने वाले मनीष कुमार ने अपनी तैयारी के दौरान अपनी नौकरी नहीं छोड़ी और नौकरी करते हुए वर्ष 2017 में परीक्षा में सफलता प्राप्त की। उन्होंने ऑल इंडिया रैंक 61 हासिल किया।- success story of Manish Kumar becoming an IAS officer also achieved 49th rank in RBI

मनीष कुमार

मनीष कुमार ने वर्ष 2017 में यूपीएससी की परीक्षा में अपना नाम टॉप रैंक में दर्ज करवाया था। उन्होंने इस सफलता को दूसरी कोशिश में हासिल किया। उसी वर्ष मनीष ने आरबीआई में भी 49 वी रैंक हासिल की। एक वर्ष पहले उन्होंने इस परीक्षा में अपना हाथ आजमाया था लेकिन उनका चयन नहीं हुआ।

प्रोफेशनल नौकरी के साथ कैसे करें यूपीएससी की तैयारी?

मनीष मानते हैं कि जो लोग नौकरी करने के साथ-साथ परीक्षा की तैयारी करते हैं, वे बेहद मेहनती होते हैं। इन समय में रोने से बेहतर है कि समय का सदुपयोग किया जाए और बर्बाद नहीं किया जाए। अगर आप पहले से ही नौकरी कर रहे हैं तो आपके पास यूपीएससी या किसी भी परीक्षा की तैयारी करने के पीछे एक एडेड मोटिवेशन होना जरूरी है। अगर आपके पास मोटिवेशन नहीं होगा तो परीक्षा के लिए आपको प्रेरणा नहीं मिलेगी। कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए भी हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अपनी पुरानी नौकरी को किसी भी तरीके से बुरा नहीं मानना चाहिए।- success story of Manish Kumar becoming an IAS officer also achieved 49th rank in RBI

न करें अपनी तुलना

मनीष के अनुसार नौकरी में होने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यदि आप सफल नहीं हुए तो आगे क्या करेंगे यह सवाल आपको नहीं सताता है? आपकी नौकरी सेंस ऑफ सिक्योरिटी की भूमिका निभाती है। कभी अपने आप को दूसरों से तुलना नहीं करना चाहिए।

समय का सदुपयोग जरूरी

मनीष के अनुसार जो व्यक्ति समय का सदुपयोग नहीं करता है वही किस्मत का रोना रोता है। यह कर्म हमेशा ही चलते रहता है इसलिए इंसान के पास जितना समय है, उतने में ही उसे ध्यान केंद्रित करके अपने काम पर ध्यान देना चाहिए।- success story of Manish Kumar becoming an IAS officer also achieved 49th rank in RBI

पहले से प्लान करें कि क्या पढ़ना है?

मनीष बताते हैं कि नौकरी करने वाले को नौकरी न करने वालों की अपेक्षा ज्यादा योजनाएं बनानी चाहिए। अपने हॉलीडेज को अच्छी तरीके से प्लान करें और किस दिन क्या पढ़ना है? यह तय कर लेना चाहिए। इसके अलावा यदि ऑफिस से छुट्टी मिल सकती है तो बीच-बीच में छुट्टी लेकर पढ़ाई जारी रखनी चाहिए। ऑफिस जाने से पहले एक घंटा मेहनत से पढ़ना जरूरी है जिससे दिन भर उसका रिवीजन हो सके। अगर कोई इंसान ज्ञान पाना चाहता है, तो वह ज्ञान सर पुस्तकों में ही नहीं होता है। इंसान को अपने आसपास की चीजों पर नजर रखनी चाहिए और ऑब्जर्व करना चाहिए ताकि जब भी कुछ सीखने का अवसर मिले तो हम पीछे ना रहे।- success story of Manish Kumar becoming an IAS officer also achieved 49th rank in RBI

जिम में सुना करते थे नोट्स

मनीष ने वर्किंग आवर्स के बारे में या बताया कि ऑफिस में जब भी वक्त मिले ऑडियो सुनना चाहिए या नोट्स बना लेना चाहिए। मनीष जब भी जिम जाते थे तो वह हर वक्त फोन पर नोट सुनते रहते थे। वर्किंग प्रोफेशनल्स के लिए समय चुराने का यही सबसे बेहतर तरीका है।- success story of Manish Kumar becoming an IAS officer also achieved 49th rank in RBI

Amit Kumar
Coming from Vaishali Bihar, Amit works to bring nominal changes in rural background of state. He is pursuing graduation in social work and simentenusly puts his generous effort to identify potential positivity in surroundings.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles