Wednesday, October 5, 2022

Buy now

महज 6 साल की उम्र में चली गई आंख की रोशनी, अपनी मेहनत और हुनर से बनीं IAS अधिकारी

सच ही कहा हैं की जिंदगी हमेशा उनके सामने घुटने टेकती है जिन लोगो के इरादे काफी बुलंद होते हैं। क्युकी बहुत ऐसे लोग होते है जो अपनी जिंदगी मे बहुत बडा बनने का सोचते हैं और हमेशा कुछ ऐसा करने का सोचते है की जिससे पूरे देश को उनपे गर्व होए। लेकिन कहीं बार कुछ ऐसा होता है की जो वो सोचते है वो करने में असफल रहते हैं । लेकिन असफलता मिलने के बाद भी कुछ लोग मेहनत करते हैं तो कही कुछ लोग हार मान कर उसी को सच मान लेते हैं क्युकी हम सब जानते हैं की आज के समय में बहुत से ऐसे लोग हैं जो मेहनत करके खुश नही होते वह सपने तो बड़े–बड़े देखते है लेकिन उनको पूरा करने से पीछे हट जाते है लेकिन कुछ लोगो को देखा जाए तो काफी परेशानियों का सामना करने के बावजूद भी वह पीछे नहीं हटते।

आज हम आपको एक ऐसी ही लड़की की कहानी बताएंगे। जिन्होंने परिस्थितियों को अपने आगे घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया मात्र 6 साल की आयु में इन्होंने अपनी आंखें खो दी थी लेकिन उसके बावजूद भी इन्होंने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत करके अपने सपने को साकार किया और एक मिसाल कायम की। इनका सपना आईएएस बनने का था और इन्होंने आईएएस बनकर ना ही अपने माता पिता का नाम रोशन किया बल्कि पूरे देश को गर्व महसूस करवाया और आज पूरे देश को ऐसी बेटी पर नाज हैं।

कौन है वो लड़की….

आज हम जिनकी बात कर रहे है वह महाराष्ट्र (Maharashtra) की रहने वाली प्रांजल पाटिल (Pranjal Patil) है जिन्होंने अपने सपने को साकार करके बहुत सारे लोगो को अपनी कहानी से प्रेरित किया की जीवन में जो बनने का सोचते है उसे पा भी सकते है। क्युकी इनकी कहानी ने हमे यह सिखाया की परिस्थिति कैसी भी क्यो न हो हौसले हमेशा बुलंद होने चाहिए। क्युकी हम जानते है प्रांजल ने अपनी जिंदगी में कई ऐसे उतार–चढ़ाव देखे जिनसे सुलझ पाना असम्भव था लेकिन इन्होंने फिर भी खुद को प्रेरित करके परिस्थितियों को अपने सपनो के आगे घुटने टेकने पर मजबूर किया।

यह भी पढ़ें:-आलू-प्याज बेचकर गुजारा करने वाले की दोनों बेटी बनीं दारोगा, किया पिता का नाम रौशन: प्रेरणा

पढ़ाई में थी काफी रुचि….

प्रांजल पाटिल को पढ़ाई में बहुत ही अधिक रुचि थी उन्होंने अपनी 10वी की पढ़ाई उल्हासनगर के दादर स्थित श्रीमती कमला मेहता स्कूल से की और 12वी की पढ़ाई चंदाबाई कॉलेज से आर्ट्स सब्जेक्ट से की और 12वी में इन्होंने 85% अंक प्राप्त किए इसके बाद इन्होंने ग्रेजुएशन के लिए मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज में दाखिला लिया और ग्रेजुएशन पूरी होने के बाद उन्होंने दिल्ली के जेएनयू कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएशन में एडमिशन लिया और पोस्ट ग्रेजुएशन करने के साथ–साथ उन्होंने यूपीएससी एग्जाम की तैयारी भी जारी रखी। उन्होंने यूपीएससी की तैयारी एक खास तरह के सॉफ्टवेयर से की जिसका नाम जॉब ऐक्सेस विद स्पीच है यह सॉफ्टवेयर उन व्यक्तियों के लिए बनाया गया है जो देख नही सकते पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी होने के बाद इन्होंने पीएचडी करने की सोची।

कई बार कोशिश करने के बाद बनी आईएएस ऑफिसर….

आज के समय में कोशिश करने से लोग डरते है उन्हे इस बात का डर रहता है कही वह फेल ना हो जाए। लेकिन उन्हे इस बात का जरा सा भी अंदाजा नही होता की हार कर जीतने वाले को बाजीगर कहते। ठीक इसी तरह प्रांजल पाटिल ने इस बात को सच करके दिखाया उन्होंने 2016 में यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा दी थी फिर उन्होंने इस परीक्षा के दौरान ऑल ओवर इंडिया में 773वा रैंक हासिल किया फिर उन्हे ना दिखने की वजह से रेलवे लेखा सेवा में जॉब प्राप्त नहीं हुई। लेकिन उन्होंने ठान लिया था की वह हार मानने वालो में से नही है उनके इसी विश्वास ने उन्हें मेहनत करने पर मजबूर कर दिया।

यह भी पढ़ें:-जिस बैंक में कभी करना पड़ा सफाई का कार्य, आज उसी बैंक में जनरल मैनेजर के पद पर हुईं आसीन

बार बार प्रयास करने पर बनी आईएएस ऑफिसर….

यह कोई आसान बात नहीं है अपने हौसले को बुलंद रखना और अपने गोल को अचीव करना अपने गोल को अचीव करने में अच्छे अच्छे लोगो के दात खट्टे हो जाते है और वह हिम्मत हार जाते है लेकिन प्रांजल पाटिल ने वो करके दिखाया जो किसी ने अपने सपने में भी नही सोच होगा। प्रांजल पाटिल ने दूसरी बार यूपीएससी की परीक्षा दी और उन्होंने ऑल ओवर इंडिया में 124वा रैंक हासिल किया। जो की एक इतिहास बन चुका था और इस परीक्षा को क्लियर करने के बाद वह आईएएस (IAS) अधिकारी बनी।

प्रेरणा…

कुछ लोग ऐसे होते है जो यह कहते की में यह करूंगा वो करूंगा लेकिन कुछ भी नही करते कहने का तात्पर्य यह है की वह प्रैक्टिकली उस बात को अपनी जिंदगी में अमल नहीं करते लेकिन हम यह भूल जाते है की जो हम सोच सकते है उसको पा भी सकते है। ठीक इसी तरह प्रांजल पाटिल ने यह साबित करके दिखाया की खुद पर भरोसा हो तो इंसान अपनी जिंदगी में कुछ भी हासिल कर सकता है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles