Thursday, September 29, 2022

Buy now

लोगों के ताने सुन आत्महत्या करने चली, दोस्त ने बचाई ज़िंदगी, आज भारत के सबसे युवा CEO में शामिल है Radhika Gupta

हमारे समाज में लोग भले कितनी ही तरक्की कर ले पर दूसरो को तरक्की करता देख आज कल लोग इतना जलते है, कि वह सामने वाले इंसान को नीचे गिराने के लिए किसी भी हद्द तक गिर सकते है। हमे हमेशा यह शिक्षा दी जाती है कि हमे दूसरो को हमेशा भला सोचना चाहिए। परंतु आज के समय में लोग इतने स्वार्थी हो गए है। की लोगो का भला करना तो दूर, किसी का भला होता हुआ भी देख नही सकते है। और दुखी लोगो की मदद करने की बजाय उनका मजाक बनाते है। ऐसे लोगो को शायद इस बात का अंदाजा नहीं होता कि सामने वाला व्यक्ति जो कि बेहद दुखी है। वह जिन हालातो से गुजर रहे होते है इस दुख का हम लोग अंदाजा भी नहीं लगा सकते है लोग मजबूर और दुखी इंसान का हमेशा मज़ाक बनाते है और उन्हे अपने खुश होने का जरिया बनाते है। जब कि जिनका मज़ाक बनता है, उन पर क्या बीत ती है, यह हम लोग कभी नही सोचते हैं।

आज हम बात करेंगे एक ऐसी महिला की जिनका उनके दोस्तो द्वारा बहुत मजाक बनाया जाता था। परंतु आखिर कार एक दिन उन्होंने खुद को साबित कर सीईओ (ceo) बन दिखाया।

कौन है वह महिला….

जिनकी आज हम बात करने जा रहे हैं, उनका नाम राधिका गुप्ता (Radhika gupta), जिनकी गर्दन में किसी तरह की दिक्कत थी। वह पैदा ही टेढ़ी गर्दन से हुई थी। जिसके कारण उन्हें बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। वह कई देशों में रह चुकी है क्युकी उनका कहना है की उनके पिता राजनियक थे जिसकी वजह से उन्हे अलग अलग जगह पर रहना पड़ता था और इसी कारण से उन्होंने अलग अलग जगह पर अपनी पढ़ाई को पूरा किया। जैसे कि पाकिस्तान, भारत, अमेरिका आदि। वह बताती है की गर्दन में दिक्कत होने की वजह से उनके दोस्त उनका बहुत मज़ाक बनाते थे। जिसका उन्हे बहुत बुरा लगता था। यहां तक कि उनके दोस्तो ने उनका नाम अप्पू भी रख दिया था। जो की एक किरदार है। उन्हे उनके दोस्त इसी नाम से बुलाया करते थे। जिससे उन्हे काफी बुरा महसूस भी होता था।

इंस्टाग्राम पर पोस्ट….

आज कल हम सभी लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर बहुत एक्टिव रहते है। लोग अपनी हर जरूरी बात सोशल मीडिया पर शेयर करना इसलिए जरूरी समझते है क्योंकि लोग वहा जायदा एक्टिव रहते है। तो इसी कारण राधिका ने भी अपनी जिंदगी की कहानी लोगो के साथ एक इंस्टाग्राम की पोस्ट द्वारा शेयर की। जिसमे लिखा था कि जब वह 22 साल की थी तब उन्हे 7वी बार नौकरी देने से इंकार किया गया था। इससे पहले वह 6 बार अलग अलग जगह पर नौकरी के लिए इंटरव्यू दे आई थी। जब उन्हे 7वी बार भी नौकरी नहीं मिली।

लोगो की सुन सुन के टूटी सारी हिम्मत..

हमारे देश में लोग किसी को ऊपर उठता हुआ नही देख सकते क्युकी हमारे यहां लोगो के दिल से नही उनकी सूरत से उनको देखा जाता है और राधिका की टेडी गर्दन होने के कारण लोगो की अलग अलग बाते सुन राधिका अपनी हिम्मत करने लगी और हिम्मत हारने की वजह से उन्होंने अपनी जिंदगी में हार मान कर सुसाइड करने की कोशिश की। लेकिन, एक दोस्त ने उन्हें बचाया और उन्हे डॉक्टर के पास ले जायेगा जब डॉक्टर ने उनका चेकअप किया तो बताया की राधिका डिप्रेशन में है।

यह भी पढ़ें:-बच्चन में ही सिर से उठा पिता का साया, मां ने उठाई घर की ज़िम्मेदारी, मात्र 19 वर्ष की उम्र में खेले इंडिया प्रतियोगिता में जीता गोल्ड मेडल

कैसे की करियर की शुरुवात….

कुछ समय बाद उन्हे अपनी पहली नौकरी Mckinsey में मिली। जहा उन्होंने तीन साल नौकरी की और उसके बाद उन्हे अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना था। तब उन्होंने अपनी खुद की एक कंपनी की शुरुवात की। उन्होंने यह कंपनी अपने पति और कुछ सच्चे दोस्तो के साथ मिलकर खोली और इस कंपनी को कुछ समय बाद Edelweiss MF ने अधिकृत कर ली जिसका नाम था, एडलवाइज ग्लोबल ऐसेट मैनेजमेंट लिमिटेड (Edelweiss Global Asset Management Limited) और जब बारी आई कंपनी के सीईओ को चुनने की तो राधिका के पति ने उन्हे सीईओ की नौकरी के लिए प्रोत्साहित किया। जिसके बाद उन्होंने इस नौकरी के लिए अप्लाई कर दिया था और कुछ समय बाद उनके पास एडलवेस का रिप्लाई आया और वह भारत के सबसे युवाओं सीईओ में से एक बन गईं।

प्रेरणा….

राधिका से हम सभी को यह प्रेरणा मिलती है कि चाहे हमारी जिंदगी में कितनी ही मुश्किल क्यू न हो। हमे कभी हार नही मानी चाहिए। उन परेशानियों से, कठिनाईयों से हमेशा लड़ना चाहिए। जब उन्होंने सुसाइड करने की सोची वह उनकी जिंदगी का बहुत गलत फैसला था। उन्हे आज अपनी उस सोच पर बहुत पछतावा भी होता है। हमे अपनी परेशानियों को हम पर भारी नही पड़ने देना चाहिए भले उनके दोस्त उनका हमेशा मज़ाक बनाते थे। पर उन्होंने हार नही मानी, खूब मेहनत की और एक मुकाम हासिल किया। ताकि सबका मुंह बंद करा सके। हमारे जीवन में कितनी ही मुश्किलें क्यू न हो, हमे उनके आगे घुटने नही टेकने है। उनसे लड़कर अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना है और एक अच्छा मुकाम हासिल करना है। ताकि जो लोग हमारी पीठ पीछे बुराइयां करते है और हमारा मज़ाक बनाते है उनका मुंह बंद हो सके और सब मजाक बनाने की बजाय इज्जत करे।

यह भी पढ़ें:-बिहार के छोटे से गांव से निकलकर IPS के बाद बनी IAS अधिकारी, जानिए दिव्या शक्ति के सफलता की कहानी

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
- Advertisement -

Latest Articles